3 संतान वाले शिक्षाकर्मी के प्रकरण में छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षाकर्मी भर्ती नियम 2007 की कंडिका 2.2 को गलत तरीके से विलोपित की है जिसके चलते प्रत्येक ब्लाक में कई अपात्र शिक्षाकर्मी गलत तरीके से नौकरी पाए हैं जब सत्ताधारी भाजपा को लगा कि नियम विरुद्ध तरीके से 3 और 3 से अधिक संतान वाले शिक्षाकर्मीयों को बर्खास्त करने से आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को वोट नहीं मिलेगा तो भाजपा ने अपने वोट बैंक में सेंध लगते देख संविधान विरुद्ध गलत तरीके से असवैंधानिक ढंग से छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षाकर्मी भर्ती नियम 2007 में संशोधन कर असवैंधानिक कृत्य किया है जिसके लिए इस आदेश को शून्य करवाने हेतु प्रत्येक ब्लाक से माननीय उच्च न्यायालय, बिलासपुर में चुनौती दिया जाना चाहिए, आर.टी.आई. कार्यकर्त्ता नेहरु दुतकामडी ने छत्तीसगढ़ शासन के उस आदेश के विरुद्ध माननीय उच्च न्यायालय, बिलासपुर जाने के लिए सभी देशभक्त नागरिकों को अपील किया है. 3 संतान वाले कुछ शिक्षाकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है

 

वहीँ इनके नियोक्ता जो कि शिक्षाकर्मियों वर्ग 1 व 2 के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत है ने जानबूझकर अपने लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए शिक्षाकर्मियों भर्ती नियम 2007 की कंडिका 2.2 के विरुद्ध 3 संतान वालों को नियुक्ति दी जिस कारण छत्तीसगढ़ राज्य सिविल सेवा नियम के तहत मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के विरुद्ध कार्यवाही किया जाना चाहिए परन्तु छत्तीसगढ़ शासन नियोक्ता के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं कर रही है इसी प्रकार शिक्षाकर्मियों वर्ग 3 के नियोक्ता मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत है इन्होंने भी जानबूझ कर 3 संतान वालों को नियुक्ति दी इसलिए इनके विरुद्ध भी छत्तीसगढ़ राज्य सिविल सेवा नियम के तहत कार्यवाही किया जाना चाहिए ये बात अलग है कि छत्तीसगढ़ शासन ने 3 संतान वाले शिक्षाकर्मियों को नियम विरुद्ध तरीके से वोट बैंक की राजनीति के तहत राहत दी है

 

जिसे प्रत्येक ब्लाक स्तर के मामले को अलग-अलग तरीके से माननीय उच्च न्यायालय, बिलासपुर में चुनौती दिया जाना चाहिए यह सीधा-सीधा संविधान के विरुद्ध है कि छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षाकर्मी नियम 2007 के कंडिका 2.2 को वर्ष 2017 में बदल दिया गया यह सब वोट बैंक के चलते किया गया है जिसे अलग-अलग देशभक्त नागरिकों के द्वारा अपने-अपने जिला व ब्लाक के मामले को माननीय उच्च न्यायालय बिलासपुर में चुनौती दिया जाना चाहिए जिससे बेरोजगारों के साथ किये गये छल करने वालों को दण्डित करवाया जा सके ये बिलकुल मानव अधिकार के विरुद्ध है कि छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षाकर्मी भर्ती नियम 2007 को 2017 में संशोधित कर उस समय के उन बेरोजगार युवक-युवतियों जिन्होंने ये सोचकर की हमारे 3 संतान हैं इसलिए शिक्षाकर्मी के पदों के लिए आवेदन नहीं किया अगर वे आवेदन करते तो शायद उनकी नौकरी लग सकती थी परन्तु उस समय इन लोगों के आवेदन स्वीकार नहीं किये गए इसलिए 3 संतान वाले प्रकरण में 2017 में निकाले गए आदेश को पुन: शून्य करने की आवश्यकता है कभी भी कोई भी नियम पुराने तिथि से लागु नहीं होता मगर छत्तीसगढ़ शासन ने ये अनोखा आदेश निकाल दिया है

 

छत्तीसगढ़ के सभी ब्लाक में सेवारत विद्वान अधिवक्ताओं से श्री नेहरु दुतकामडी ने प्रार्थना की है कि वे अपने-अपने ब्लाक के अपात्र 3 संतान वाले शिक्षाकर्मियों के दस्तावेज निकालकर माननीय उच्च न्यायालय, बिलासपुर में परिवाद दायर करने का कष्ट करें जिससे वंचित व बेरोजगारों को न्याय मिल सके. इनमे 3 तीन संतान वाले शिक्षाकर्मियों के नियोक्ताओं पर भी कार्यवाही बनती है 3 संतान वाले अपात्र शिक्षाकर्मी का मामला मध्यप्रदेश के व्यापम घोटाले से बड़ा घोटाला है जिसे सत्ताधारी लोग दबाना चाहते हैं.

किसी भी काम में एक्सपर्ट होना चाहते हैं तो सबसे जरूरी है एकाग्रता। एकाग्रता (Concentration) के साथ किए गए हर काम में सफलता मिलने संभावनाएं काफी अधिक बढ़ जाती हैं। शरीर में शक्ति का संचय तभी होता है, जब शरीर को शक्ति संचय करने का समय मिले। ध्यान शरीर में मानसिक और शारीरिक शक्ति को इकठ्ठा करने का वो समय देता है। ध्यान एकाग्रता को बढ़ाता है। एकाग्रता किसी भी काम में परफेक्ट होने की पहली सीढ़ी होती है। बिना एकाग्र मन के कोई उपलब्धि हासिल नहीं की जा सकती।
 
जब तक हम मन को एकाग्र करना नहीं सिखते, तब तक मन हमें कुछ और नहीं सिखने देता है। सबसे जरूरी है, अपने मन पर नियंत्रण किया जाए।
हमारे ऋषि-मुनियों ने एकाग्रता पर बहुत काम किया है। कोई भी काम करते समय एकाग्रता का अभ्यास रखें। जब जो करें, पूरी एकाग्रता के साथ करें।

Popular Videos

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

Category: वन विभाग

Category: शिक्षा

Featured Videos

Category: शिक्षा

Category: रायपुर

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

विशेष  सूचना -  यदि किसी समाचार को रोकने या चलाने संबंधी दावा किया जाता है तो संपर्क करें -  अनिल अग्रवाल , 7999827209

सोशल मीडिया

संपर्क करें

अनिल अग्रवाल
संपादक
दानीपारा, पुरानी बस्ती
रायपुर,  छ्त्तीसगढ
492001
Mobile   - 7999827209
Email    - anilvafadar@gmail.com
website - http://www.vafadarsaathi.com

© 2010 vafadarsaathi.com. All Rights Reserved. Designed By AGsys

Please publish modules in offcanvas position.