फर्म एंड सोसायटी एक्ट ( छत्तीसगढ़ सोसायटी अधिनियम 1973 एवं नियम 1998 ) का उल्लंघन कर बिना मतदान के स्वयं भू समाज के नेता, जो की पुरानी बस्ती रायपुर के नामचीन कालाधन धारक हैं आयकर विभाग अगर इनके यहाँ छापा मारे तो करोड़ो रुपए का कालाधन, नगदी, जेवर और बेनामी सम्पति जप्त होगी , ये आर्थिक अपराधी स्वयं भू समाज के नेता बन समाज को धोका दे रहे हैं. इनका असल उद्देश्य डॉ रमन सिंह जी के बाजू में खड़े होकर फोटो खिंचाकर अफसर को धमका कर निविदा हासिल करना , मेरा तो डॉ रमन सिंह से आग्रह है कि ऐसे फर्जी समाज सेवकों से सावधान रह कर इनके कालाधन की जांच करवाये और इनकी अवैध सम्पति को जप्त करे ।

 

कुछ दलालनुमा लोग समाज सेवक के भेष में पुरानी बस्ती, रायपुर में सक्रीय है जिनका मकसद अपनी राजनीतिक रोटी सेकना है ये किसी समय श्री मोतीलाल वोरा जी के नजदीक होते थे और खुद को कांग्रेस परिवार का अंग बता कर कांग्रेस शासन काल में जमकर लाभ उठाया, पुरानी बस्ती, रायपुर के ये दलाल ने गत 30 वर्ष में 300 करोड़ रूपये से अधिक की अकूत संपत्ति अर्जित की है जिसकी जाँच आयकर विभाग को करना चाहिए, अब जब ऐसा नजारा सामने आ रहा है कि भविष्य में भी कभी कांग्रेस की सरकार नहीं बनेगी ऐसा सोच ये पुरानी बस्ती, रायपुर के दलाल समाज सेवक के भेष में डा. रमन सिंह के खेमे में घुसने का प्रयास कर रहे हैं

 

डा. रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, केदार कश्यप, गौरीशंकर अग्रवाल व भाजपा संगठन, आर.एस.एस. को चाहिए कि ऐसे पलक झपकते आस्था बदलने वाले दलालों से सावधान रहकर पुरानी बस्ती, रायपुर के निष्ठावान भाजपा कार्यकर्ताओं की कद्र करें, पुरानी बस्ती, रायपुर के इस दलाल का मकसद डा. रमन सिंह के साथ फोटो खिंचवाकर अधिक से अधिक निविदा हासिल कर लाभ कमाना है डा. रमन सिंह को इनके काले कारोबार की तहकीकात कर इनकी अवैध संपत्ति को जप्त कर इन्हें ब्लैक लिस्टेड (काली सूची) में डाल देना चाहिए, जिससे छत्तीसगढ़ शासन में कोई भी निविदा हासिल करने के लिए ये अपात्र घोषित हो जावें.

 

महाराज अग्रसेन ने समाजवाद का पाठ पढाया था और एक ईट व एक रूपये देकर गरीब जनता की सेवा की थी इसके बिलकुल विपरीत पुरानी बस्ती, रायपुर का ये दलाल गरीबों का मजाक उडाकर अपने काले धन के आधार पर भाजपा व छत्तीसगढ़ शासन व आर.एस.एस. में धाक जमाना चाहता है, समाज सेवक के भेष में दरअसल इनका सही मकसद डा. रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, केदार कश्यप, गौरीशंकर अग्रवाल व भाजपा संगठन, आर.एस.एस. के नजदीक आकर निविदा हासिल करना है जिसके षड्यंत्र को डा. रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, केदार कश्यप, गौरीशंकर अग्रवाल व भाजपा संगठन, आर.एस.एस. को सावधान करना हमारा मकसद है.

 

जो दलाल खुद ग्यारहवीं फेल हो वो कैसे शिक्षा का अलख जगा सकता है इनके अकूत संपत्ति को राजसात करवाने के लिए सक्षम न्यायालय में प्रकरण प्रस्तुत की गई है ऐसा इनके व्यापारिक प्रतिस्पर्धियों ने किसी को कहा है जो कि समय आने पर पता चलेगा.

 

आयकर विभाग यदि पुरानी बस्ती, रायपुर के मात्र 10 – 12 लोगों के यहाँ छापा मारे तो बेनामी संपत्ति, नकदी, बेशकीमती हीरे – जवाहरात के गहने व मंहगे साड़ी तथा बैंक अकाउंट मिलेंगे ये 10 – 12 लोग अपने नौकर-चाकर, ड्राइवर, नजदीकी परिजन के नाम से भी पेन नंबर व इनकम टैक्स फ़ाइल बना कर अपना काला धन को सफ़ेद करने का षड्यंत्र किये हैं ज्यादा नहीं इनके सभी के मोबाईल व इनके स्टाफ व नौकर-चाकर व इनके नजदीकी परिजनों के मोबाईल को सर्विलिएंस (निगरानी) में रखें तो करोड़ों रूपये का काला धन शासन को प्राप्त होगा.

 

समाज के नेता का भेष पहन कर कोई समाजसेवक नही बनता ये रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, केदार कश्यप, गौरीशंकर अग्रवाल व भाजपा संगठन, आर.एस.एस. के नजदीक आकर अपने कालाधन को सुरक्षित करना चाहते है क्योकि इन्होने छत्तीसगढ़ शासन और शिक्षा को व्यापार बना कर करोड़ो का कालाकारोबार किया अब जब इनकी शिकायत होने लगी तो ये राजनैतिक संरक्षण चाह रहे हैं .  

इन दिनों कुछ दलालनुमा लोग समाज सेवक के भेष में पुरानी बस्ती, रायपुर में सक्रीय है जिनका मकसद अपनी राजनीतिक रोटी सेकना है ये किसी समय श्री मोतीलाल वोरा जी के नजदीक होते थे और खुद को कांग्रेस परिवार का अंग बता कर कांग्रेस शासन काल में जमकर लाभ उठाया, पुरानी बस्ती, रायपुर के ये दलाल ने गत 30 वर्ष में 300 करोड़ रूपये से अधिक की अकूत संपत्ति अर्जित की है जिसकी जाँच आयकर विभाग को करना चाहिए, अब जब ऐसा नजारा सामने आ रहा है कि भविष्य में भी कभी कांग्रेस की सरकार नहीं बनेगी ऐसा सोच ये पुरानी बस्ती, रायपुर के दलाल समाज सेवक के भेष में डा. रमन सिंह के खेमे में घुसने का प्रयास कर रहे हैं

 

डा. रमन सिंह को चाहिए कि ऐसे पलक झपकते आस्था बदलने वाले दलालों से सावधान रहकर पुरानी बस्ती, रायपुर के निष्ठावान भाजपा कार्यकर्ताओं की कद्र करें, पुरानी बस्ती, रायपुर के इस दलाल का मकसद डा. रमन सिंह के साथ फोटो खिंचवाकर अधिक से अधिक निविदा हासिल कर लाभ कमाना है डा. रमन सिंह को इनके काले कारोबार की तहकीकात कर इनकी अवैध संपत्ति को जप्त कर इन्हें ब्लैक लिस्टेड (काली सूची) में डाल देना चाहिए, जिससे छत्तीसगढ़ शासन में कोई भी निविदा हासिल करने के लिए ये अपात्र घोषित हो जावें.

 

महाराज अग्रसेन ने समाजवाद का पाठ पढाया था और एक ईट व एक रूपये देकर गरीब जनता की सेवा की थी इसके बिलकुल विपरीत पुरानी बस्ती, रायपुर का ये दलाल गरीबों का मजाक उडाकर अपने काले धन के आधार पर भाजपा व छत्तीसगढ़ शासन व आर.एस.एस. में धाक जमाना चाहता है, समाज सेवक के भेष में दरअसल इनका सही मकसद डा. रमन सिंह के नजदीक आकर निविदा हासिल करना है जिसके षड्यंत्र को डा. रमन सिंह, बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, केदार कश्यप, गौरीशंकर अग्रवाल व भाजपा संगठन, आर.एस.एस. को सावधान करना हमारा मकसद है.

 

जो दलाल खुद ग्यारहवीं फेल हो वो कैसे शिक्षा का अलख जगा सकता है इनके अकूत संपत्ति को राजसात करवाने के लिए जल्द ही सक्षम न्यायालय में प्रकरण प्रस्तुत की गई है ऐसा इनके व्यापारिक प्रतिस्पर्धियों ने किसी को कहा है जो कि समय आने पर पता चलेगा.

 

 आयकर विभाग यदि पुरानी बस्ती, रायपुर के मात्र 10 – 12 लोगों के यहाँ छापा मारे तो बेनामी संपत्ति, नकदी, बेशकीमती हीरे – जवाहरात के गहने व मंहगे साड़ी तथा बैंक अकाउंट मिलेंगे ये 10 – 12 लोग अपने नौकर-चाकर, ड्राइवर, नजदीकी परिजन के नाम से भी पेन नंबर व इनकम टैक्स फ़ाइल बना कर अपना काला धन को सफ़ेद करने का षड्यंत्र किये हैं ज्यादा नहीं इनके सभी के मोबाईल व इनके स्टाफ व नौकर-चाकर व इनके नजदीकी परिजनों के मोबाईल को सर्विलिएंस (निगरानी) में रखें तो करोड़ों रूपये का काला धन शासन को प्राप्त होगा.

गोपालगंज.गुरुवार की देर रात जमीन विवाद में दर्जनों हथियार बंद अपराधियों ने जदयू नेता तेज प्रकाश सिंह की हत्या उनके घर में घुसकर कर दी। इस दौरान हथियार बंद अपराधियों ने दहशत फैलाने के लिए 50 राउंड फायरिंग की जिसमें मृतक के पड़ोसी के घर में गोलियों के निशान पड़ गए। वहीं मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि मृतक ने अपनी जान बचाने के लिए अपराधियों पर पड़ोसी के छत से ईंट पत्थर चलाया लेकिन बेखौफ अपराधियों ने इस घटना को अंजाम दे दिया।

आपराधिक छवि का था मृतक

करीब एक घंटे तक मृतक के घर अपराधियों का कब्जा रहा और पुलिस को सूचना मिलने के बाद भी वह घटना स्थल पर समय से नहीं पहुंच सकी। घटना के करीब एक घंटे बाद आए एसडीपीओ मनोज कुमार सहित नगर थाना की टीम घटना स्थल पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। वहीं वारदात के बाद लोगों को दहशत में देखकर पूरी रात पुलिस ने कैंप जारी रखा। बताया जा रहा है कि मृतक भी आपराधिक छवि का था। उस पर पूर्व में जिले के कई थानों में एक दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज हैं। वहीं कई मामलों में वह पूर्व में जेल भी जा चुका था। इस मामले में पुलिस ने देर शाम तक किसी भी अपराधी को गिरफ्तार नहीं किया था।

Popular Videos

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

Category: वन विभाग

Category: शिक्षा

Featured Videos

Category: शिक्षा

Category: रायपुर

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

विशेष  सूचना -  यदि किसी समाचार को रोकने या चलाने संबंधी दावा किया जाता है तो संपर्क करें -  अनिल अग्रवाल , 7999827209

सोशल मीडिया

संपर्क करें

अनिल अग्रवाल
संपादक
दानीपारा, पुरानी बस्ती
रायपुर,  छ्त्तीसगढ
492001
Mobile   - 7999827209
Email    - anilvafadar@gmail.com
website - http://www.vafadarsaathi.com

Please publish modules in offcanvas position.