पी.डब्लू.ड़ी. के नवनिर्मित ई.एन.सी. मुख्यालय भवन नया रायपुर "" निर्माण भवन "" की सीढ़ी का हाल देखे , इनके ई.ई. पवन अग्रवाल है , जब पी.डब्लू.डी. अपने निर्माण भवन को ऐसा बनाये है तो रोड और भवन का क्या हाल होगा, इसकी कल्पना की जा सकती हैं |

ये विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना के देख – रेख में बना हैं विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना के इतिहास व भूगोल के जानकर बताते हैं की प्रभात सक्सेना अपने पापा जी के बदले अनुकम्पा नियुक्ति में सहायक ड्राफ्टमेंन के पद से पी.डब्लू.डी. में नौकरी पाए फिर अचानक उसे सबइंजीनियर के पद में प्रमोशन हो गया ,

फिर वो सबइंजीनियर से एस.डी.ओ.बन गए जबकि कुछ लोग उनके सहायक ड्राफ्टमेंन से एस.डी.ओ.तक के सफर को लेकर सवाल उठाते हैं कुछ लोगो का कहना है की विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना के पास आज की दौर में सबसे ज्यादा काम हैं, इनके सब डीवीजन में सबसे ज्यादा मलाईदार कार्य है और ये लगभग 12 साल से रायपुर में पद्स्थ हैं. अगर दुसरे एस.डी.ओ. के पास 1 कार्य होगा तो विद्वान इंजी.प्रभात सक्सेना के पास लगभग 5 – 7 गुना कार्य होगे |

विद्वान इंजी.प्रभात सक्सेना के शासकीय गाड़ी के लाग बुक को हम जनता – जनार्दन के सामने रख रहे है देखे और पढ़ कर बताये, कुछ जानकारों का कहना है की तो विद्वान इंजी.प्रभात सक्सेना ने जानबूझ कर अस्पष्ट लिपि में शासकीय गाड़ी के लाग बुक लेख किया हैं, हम उसे जनहित में सार्वजनिक कर रहे हैं

जब पी.डब्लू.डी. मंत्री रविन्द्र चौबे थे फिर तरूण चटर्जी , बृजमोहन अग्रवाल , राजेश मूणत या कोई भी हो. हमेंशा विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना रायपुर में रहे हैं लोग कहते है. विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना अपनी पोस्टींग का आदेश अपने घर में टाईप कर सिर्फ हस्ताक्षर करवाने जाते हैं |

कुछ लोग तो यहाँ तक कहते है की जब अजित जोगी मुख्यमंत्री थे तो उनके पुत्र अमित जोगी के विद्वान इंजी. प्रभात सक्सेना खास मित्र थे और उस समय के ई.एन.सी.श्री जी.के.सोंलकी ने इनका तबादला कही और कर दिया था तो ये तबादला आदेश को लेते ही भडक गए और सीधा कहा की अब आप स्वयं मेरा तबादला रद्द कर वापस लाकर दोगे और हुवा भी |

पी.डब्लू.डी. रायपुर डिविजन – 3 में सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 का बुरा हाल हैं गत माह मेरे 4 प्रकरण में बिना प्रमाणित किये जानकारी पंहुचा कर पल्ला झाड़ दिये और फिर बाद में उसी जानकारी को निशुल्क देना पड़ा जिस कारण पी.डब्लू.डी.का कितना कीमती समय व्यर्थ हुवा हैं, पी.डब्लू.डी.में जानबूझकर शासकीय गाड़ी का लाग बुक नही भरा जाता हैं और भरते भी है तो ऐसा जिसे कोई पढ़ ना सके. जैसे की हमने अभनपुर - कोलर – टेकरी मार्ग में उच्च अधिकारियो के द्वारा निरीक्षण प्रतिवेदन की जानकारी चाही तो किसी ने भी निरीक्षण प्रतिवेदन जारी नही किया हैं. जिस कारण अभनपुर - कोलर – टेकरी मार्ग की हालत बहुत ख़राब हैं,

तभी तो कुछ सबइंजीनियर 40 हजार की सेलरी में वी.आई.पी. की लाईफ स्टाईल जी रहे है | वैसे भी पी.डब्लू.ड़ी. में परदेशियावाद हावी है मूल छत्तीसगढ़िया सबइंजीनियर को अपमानित करना और चमचागिरी के मजबूर करना पी.डब्लू .डी. के कुछ लोगो की फितरत में हैं |

जो व्यक्ति रोज पी.डब्लू.डी.के भाग्य विधाता के चौखट में नाक रगडता है हैं उसका दिन दुगुना रात चौगुना तरक्की होना तय है |
कुछ तो ऐसे लिपिक हैं जो की 20 साल से अधिक एक डीवीजन में रह कर करोडो के मलिक है और रायपुर में भव्य कई बंगला हैं |

पी.डब्लू.डी.में अब भावना, खुद्दारी की कोई कीमत नही है जो लोग अपने भावना, खुद्दारी को होटल में छोड़ कर आ जाते हैं वो भी चमचागिरी का तमगा पाने उनसे क्या शराफत की उम्मीद करते है.
पी.डब्लू.डी. के किन – किन लोगो ने क्या – क्या किस किस को सप्लाई किया हैं ये जग जाहिर हैं .

Popular Videos

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

Category: वन विभाग

Category: शिक्षा

Featured Videos

Category: शिक्षा

Category: रायपुर

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

विशेष  सूचना -  यदि किसी समाचार को रोकने या चलाने संबंधी दावा किया जाता है तो संपर्क करें -  अनिल अग्रवाल , 7999827209

न्यूज़

देश
विदेश
छ्त्तीसगढ
खेल
मनोरंजन
धर्म
स्वास्थ्य
शिक्षा 
सामाजिक
अन्य

आर. टी. आई.

पी. डब्लू. डी.

वन विभाग

स्वास्थ्य विभाग

पुलिस विभाग

नगर निगम

शिक्षा विभाग

अन्य विभाग

सोशल मीडिया

संपर्क करें

अनिल अग्रवाल
संपादक
दानीपारा, पुरानी बस्ती
रायपुर,  छ्त्तीसगढ
492001
Mobile   - 7999827209
Email    - anilvafadar@gmail.com
website - http://www.vafadarsaathi.com

Please publish modules in offcanvas position.