रायपुर में बिना परमिशन के चल रहे धडल्ले से शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस  

कुछ बड़े होटलों एवं बड़े मैरिज पैलेसों को छोड़कर अधिकांश शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस बिना अनुमति के धड़ल्ले से चल रहे हैं जबकि इन्हें अपना स्वयं का पार्किंग तथा स्वयं का विद्युत् कनेक्शन लेकर शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस चलाना चाहिए कुछ तो अपने पुराने घर व बाड़े को शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस बनाकर धंधे कर रहे हैं जिस कारण आसपास के लोगों को बहुत परेशानी होती है वहीँ अपनी कमाई का कुछ हिस्सा ऊपर बैठे लोगों को दे देने से कोई कार्यवाही नहीं होती, रायपुर शहर में कुछ ऐसे भी शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस हैं जिनका लैंड यूज कृषि है और वे व्यावसायिक रूप से उपयोग कर रहे हैं जबकि व्यावसायिक उपयोग के लिए जमीन का डायवर्सन कराना आवश्यक है वहीँ कुछ चालाक लोग शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस में छोटा सा मंदिर का कनेक्शन लेकर व्यावसायिक उपयोग करते हैं कई तो ऐसे हैं जो एक दिन में 1 लाख से लेकर 50 हजार रूपये की किराये वसूलते हैं जिस कारण सरकार का टैक्स जाता ही है और काले धन के द्वारा शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस का धंधा अवैध तरीके से चल रहा है वहीँ विद्युत् मंडल से बिना परमिशन लिए शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस  चला रहे हैं जिस कारण लो वोल्टेज तथा अन्य समस्या पैदा होता हैi. वहीँ शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस जिसमे सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विरुद्ध तेज आवाज से लाऊड स्पीकर चलाया जाता है जिससे आसपास  के लोगों, अस्पताल के मरीजों, पढ़ाई करने वाले छात्र-छात्राओं, छोटे-छोटे बच्चों को भारी परेशानी होती है तथा बिना अनुमति के चल रहे शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस  में कुछ लोगों के द्वारा शराब के नशे में हुल्लड़बाजी, छेड़खानी, लड़ाई-झगडा जैसी हरकतें किया जाता है जिसकी शिकायत करने पर शिकायतकर्ता को ही डरा धमका कर चुप करा दिया है. बिना अनुमति के चल रहे शादी घर, मंगल भवन, मैरिज पैलेस के कार्यक्रम में लोगों के द्वारा  खाना खाने के बाद आसपास गन्दगी फैला दिया जाता है जिससे आसपास आवारा मवेशी, कुत्ते एवं अन्य जानवर इकठ्ठे हो जाते हैं जिससे आसपास में रहने वाले लोगों को भारी परेशानी होती है बिना अनुमति के चल रहे शादी घरों में कार्यक्रम ख़त्म हो जाने के बाद वहां फैले कचड़े को उठाया नहीं जाता जिसे नगर निगम रायपुर के कर्मचारियों के द्वारा कई दिनों के बाद उठाया जाता है तब तक आसपास भारी गंदगी से बदबू आने लगता है जिससे आसपास के लोगों को कई प्रकार की बीमारी भी हो जाती है जिसकी शिकायत करने पर पर कोई कार्यवाही नहीं की जाती.    ii  

इस मामले पर पुरानी बस्ती थाना - रायपुर व सी.एस.पी. पुरानी बस्ती - रायपुर व कंट्रोल रूम को मोबाइल पर सूचना दिए जाने पर कोई कार्यवाही होती उल्टा सूचनाकर्ता का नाम अपराधी को बता दिया जाता है, जबकि माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत ध्वनि प्रदुषण को पुरानी बस्ती थाना को स्वत संझान में लेकर कार्यवाही करना है पर ऐसा नही होता उल्टा सूचनाकर्ता को भिड़ा दिया जाता हैं ,,,,,,,,,

पुरानी बस्ती थाना, रायपुर के पोलिस वालो के सामने रोज डी.जे.के गाड़ी के डाला से 4 – 5 फीट पोगा बाहर निकाल कर माननीय सुप्रीमकोर्ट व मोटर विकल एक्ट के आदेश के विरुद्ध डी.जे.बजाते हैं ...... रायपुर पुरानी बस्ती थाना के पुलिस के मोबाइल वैन के सामने डी.जे., पोगा , धुमाल वाले मुछ में ताव देकर माननीय सुप्रीमकोर्ट के आदेश की धज्जी उड़ता हुवा मनमानी करते रहे और पुरानी बस्ती थाना के बेबस सिपाही माननीय सुप्रीमकोर्ट के आदेश की धज्जी उड़ता देखते रहते हैं ,


माननीय सुप्रीम कोर्ट का आदेश है एक निर्धारित सीमा में पोगा व डी.जे., धुमाल बजाया जावे पर ऐसा नहीं है निर्धारित सीमा का उल्लघन कर तेज आवाज में डी.जे. व पोगा, धुमाल बजाया जाता हैं, पुरानी बस्ती पुलिस कोई कार्यवाही नहीं करती हैं, पुरानी बस्ती थाने क्षेत्र में अनेक ऐसे विवाह घर हैं जो की नगर – निगम, रायपुर व जिला प्रशासन – रायपुर व यातायात विभाग व विधुत मंडल के बिना अनुमति के शादी घर चला रहे है,

जबकि उनको शादी घर चलाने का लायसेन्स भी प्राप्त नही है फिर भी खुले आम दादागिरी से गैर व्यायसायिक जमीन का बिना डायवर्शन कराये अपने घर में ही व्यावसायिक लाभ के लिए शादी घर बना लिए है,


जिस कारण उस ..... फर्जी शादी घर ..... के आजू – बाजू के छात्र – छात्राओ, बीमार बुजर्गो का मानव अधिकार का हनन खुले आम होता है इनके कारण........फर्जी शादी घर....... के आस – पास यातायात जाम हो जाता है, इस मामले पर पुरानी बस्ती थाना, रायपुर व सी.एस.पी. पुरानी बस्ती, रायपुर व कंट्रोल रूम को मोबाइल पर सूचना दी जाने पर पुरानी बस्ती थाने के एकाध मरहा – खुरहा सिपाही आते है. जबकी ध्वनि प्रदुषण को रोकने के लिए कम से कम 100 – 150 पुलिस वाले अस्त्र – शस्त्र से लैस होकर आवे तो पुलिस का कहना मानेगे अन्यथा ये लोग पुलिस वाले से ही भीड़ जाते हैं जिस कारण पुरानी बस्ती पुलिस को खुद जान बचा कर भागना पड़ता हैं जिस कारण जिला पुलिस – रायपुर व जिला प्रशासन – रायपुर कोई कार्यवाही नही करता है...पुरानी बस्ती थाने के पुलिस वाले दबी जुबान में कहते है की जब तक डॉ.रमन सिंह जी के द्वारा आदेश नही मिलेगा, हम कुछ नही कर सकते है.


डॉ रमन सिंह जी कृपया आप पुरानी बस्ती थाने को स्पष्ट आदेश देने की कृपा करे जो जितना रसूखदार है उससे उतनी ही सकती के साथ पुरानी बस्ती थाना सक्ती के साथ पेश आकर बिलकुल ......सिघंम ......के स्टाईल में सक्त से सक्त कार्यवाही कर सुप्रीमकोर्ट के आदेश व मोटर विकल एक्ट की धज्जी उड़ाने वालो को जेल भेजे तभी कानून का राज स्थापित होगा !

Popular Videos

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

Category: वन विभाग

Category: शिक्षा

Featured Videos

Category: शिक्षा

Category: रायपुर

Category: रायपुर

Category: शिक्षा

विशेष  सूचना -  यदि किसी समाचार को रोकने या चलाने संबंधी दावा किया जाता है तो संपर्क करें -  अनिल अग्रवाल , 7999827209

सोशल मीडिया

संपर्क करें

अनिल अग्रवाल
संपादक
दानीपारा, पुरानी बस्ती
रायपुर,  छ्त्तीसगढ
492001
Mobile   - 7999827209
Email    - anilvafadar@gmail.com
website - http://www.vafadarsaathi.com

Please publish modules in offcanvas position.